- गर्लफ्रेंड से झगड़े के बाद बना लड़कियों का दुश्मन, यूं चुन-चुन कर लेने लगा खौफनाक बदला | सच्चाईयाँ न्यूज़

रविवार, 28 जनवरी 2024

गर्लफ्रेंड से झगड़े के बाद बना लड़कियों का दुश्मन, यूं चुन-चुन कर लेने लगा खौफनाक बदला

 


त्तरी दिल्ली के बुराड़ी इलाके में एक स्कूल के पास लड़की पर केमिकल (कास्टिक सोडा) फेंकने के आरोप में 16 वर्षीय लड़के को रविवार को गिरफ्तार कर लिया गया. पुलिस के मुताबिक अब तक कि जांच में पता चला है कि अपनी गर्लफ्रेंड से विवाद के बाद इस नाबालिग ने वारदात को अंजाम दिया है.

वो पीड़िता को जानता तक नहीं है. वो अपनी गर्लफ्रेंड से झगड़े के बाद इस तरह की वारदात को अंजाम देने लगा था. पुलिस आरोपी को हिरासत में लेने के बाद पूछताछ कर रही है.

जानकारी के मुताबिक, पीड़ित लड़की पर केमिकल फेंकने की घटना बीते बुधवार दोपहर करीब 1 बजे हुई. उस वक्त वो शास्त्री पार्क एक्सटेंशन के पास एक स्कूल में अपने 10 वर्षीय चचेरे भाई को लेने गई थी. इस वारदात के बाद उसके परिजनों ने पुलिस को सूचित किया. इसके बाद बुराड़ी पुलिस स्टेशन में आईपीसी की धारा 326 (बी) और 341 के तहत एक केस दर्ज कर किया गया. केमिकल की वजह से पीड़ित लड़की की आंखों, गर्दन और नाक पर खुजली और जलन होने लगी थी.

पुलिस के मुताबिक, केमिकल हमले के बाद पीड़ित लड़की को बुराड़ी के सरकारी अस्पताल ले जाया गया. वहां से इलाज के बाद उसे छुट्टी दे दी गई. पुलिस ने हमलावर की पहचान करने और उसे पकड़ने के लिए तीन अलग-अलग टीमें बनाई थी. चूंकि पीड़िता हमलावर को नहीं जानती थी या उसका उससे पहले कोई झगड़ा नहीं हुआ था, इसलिए पुलिस के लिए इस मामले को सुलझाना मुश्किल हो गया था. यहां तक कि घटनास्थल के आसपास कोई सीसीटीवी कैमरा भी नहीं था.

पुलिस उपायुक्त (उत्तर) मनोज कुमार मीना ने कहा, "पीड़ित लड़की से पूछताछ की गई थी. उसने आरोपी से किसी भी तरह के संबंध से इंकार कर दिया. जैसा कई बार प्रेम संबंधों में असफल रहने पर इस तरह की वारदात अंजाम देखी जाती है. ऐसे में हमारे लिए एक ब्लाइंड केस बन गया था. यहां तक कि घटना स्थल पर कोई सीसीटीवी कैमरा भी नहीं था. यही वजह है कि इस केस की जांच करना आसान काम नहीं था. पीड़िता की प्रोफाइलिंग, सोशल मीडिया हिस्ट्री आदि चेक की गई थी.''

लाखों कैश और ज्वैलरी लेकर 2 महीने में दूसरी बार भागी 'लुटेरी दुल्हन', CCTV में प्रेमी संग नजर आई

पुलिस उपायुक्त ने बताया कि पुलिस की अलग-अलग टीमों ने विभिन्न एंगल से इस केस की जांच शुरू कर दी. घटनास्थल की ओर आने वाले हर रास्ते में मौजूद सीसीटीवी फुटेज को खंगाला गया. पुलिस की एक टीम सादे कपड़ों में इलाके अन्य स्कूलों के पास तैनात कर दी गई. इसी बीच सावधानीपूर्वक जांच करने के बाद एक सीसीटीवी फुटेज में घटनास्थल से लगभग दस मिनट की दूरी पर एक लड़के की पहचान की गई, जो कि भाग रहा था. उसका चेहरा दिखाई नहीं दे रहा था.

पीड़िता द्वारा बताए गए विवरण से जब लड़के के हुलिए से मेल किया गया तो समझ में आ गया कि वही आरोपी है. इसके बाद पुलिस ने दबिश देकर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. उसने पूछताछ के दौरान अपना अपराध कबूल कर लिया है. पुलिस ने हमले में इस्तेमाल किया गया कास्टिक पाउडर, पानी का घोल, एक छोटी बोतल, कपड़े, बैग और रूमाल मास्क सहित कई सबूत बरामद किए हैं. जो कपड़े आरोपी ने पहने थे वे भी बरामद कर लिए गए है."

एक टिप्पणी भेजें

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search