- हनी ट्रैप में फंसे राजस्थान पुलिस के इंस्पेक्टर ने 90 लाख गंवाए, तीन महिलाओं सहित पांच गिरफ्तार | सच्चाईयाँ न्यूज़

रविवार, 11 फ़रवरी 2024

हनी ट्रैप में फंसे राजस्थान पुलिस के इंस्पेक्टर ने 90 लाख गंवाए, तीन महिलाओं सहित पांच गिरफ्तार

 राजस्थान के डीग जिले के कुम्हेर थाने पर तैनात इंस्पेक्टर महेंद्र राठी द्वारा अलवर के अरावली विहार पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराने के बाद हनी ट्रैप मामले में तीन महिलाओं सहित पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

पीड़ित इंस्पेक्टर इससे पहले भरतपुर के उद्योग नगर थाने में तैनात थे. वहां उनकी एक महिला से दोस्ती हो गई थी. इसके बाद उस महिला ने उन्हें रेप के फर्जी मामले में फंसाने की धमकी देकर उनसे 90 लाख रुपए ठगे थे. इस मामले की जांच के लिए अलवर पुलिस भरतपुर पहुंची है.

जानकारी के मुताबिक, कुम्हेर थाना प्रभारी महेंद्र राठी ने अपनी शिकायत में एक महिला पर हनी ट्रैप में फंसाने का आरोप लगाया था. उन्होंने बताया कि सोशल मीडिया के जरिए भरतपुर की रहने वाली एक महिला से उनकी दोस्ती हो गई थी. इस महिला ने बाद में उन्हें रेप के झूठे केस में फंसाने की धमकी देकर ब्लैमकमेल करना शुरू कर दिया. इतना ही नहीं उनसे करीब 90 लाख रुपये भी हड़प लिए. उस वक्त पीड़ित इंस्पेक्टर भरतपुर के उद्योग नगर थाने में तैनात थे. उनकी सगाई का एक वीडियो भी वायरल हुआ था.

अलवर के अरावली विहार थाने के प्रभारी पवन चौबे ने बताया कि पुलिस इंस्पेक्टर महेंद्र राठी द्वारा शिकायत दर्ज कराने के बाद इस मामले में तीन महिलाओं सहित पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है. पुलिस की एक टीम उनके नेतृत्व में भरतपुर जांच करने के लिए आई है. इस बाबत यहां कुछ लोगों के बयान भी लिए गए हैं. बताया जा रहा है कि ये साल 2022 की घटना है. उस वक्त पीड़िता इंस्पेक्टर और आरोपी महिला एक-दूसरे से मिलने जुलने लगे थे. इस दौरान उसने महेंद्र राठी का अश्लील वीडियो बना लिया था.

FB के जरिए हनी ट्रैप में फंसा सतेंद्र सिवाल ऐसे बना ISI एजेंट... जानिए PAK खुफिया एजेंसी की मॉडस ऑपरेंडी

बताते चलें कि पिछले साल भी राजस्थान के भरतपुर में हनी ट्रैप गैंग का पुलिस ने पर्दाफाश किया था. इस मामले में पुलिस ने एक महिला समेत चार आरोपियों को गिरफ्तार किया था. चिकसाना थाना क्षेत्र के रहने वाले दो व्यक्तियों को एक महिला ने हनी ट्रैप में फंसाकर मिलने के लिए बुलाया और बंधक बना लिया. इसके बाद अपने साथियों के साथ मिलकर उन्हें रेप केस के झूठे मामले में फंसाने की धमकी देकर रुपये मांगने लगी. पीड़ितों ने अपने परिजनों को कॉल करके पैसे मांगे, लेकिन उन्होंने पुलिस को सूचित कर दिया.

पुलिस ने बताया था कि भरतपुर के रहने वाले श्यामवीर नामक शख्स से एक महिला कविता मीणा (30) ने दोस्ती की थी. इसके बाद दोनों फोन पर रोज बातें करने लगे. नए साल पर महिला ने उसे मिलने के लिए वृंदावन में मौजदू प्रेम मंदिर बुलाया. शायमवीर बाइक से अपने गांव के दोस्त धर्मवीर के साथ वृंदावन पहुंच गया. महिला उसे अपने फ्लैट में ले गई, जहां उसके साथी दिनेश, विजय और रामकेश पहले मौजूद थे. सभी ने मिलकर दोनों को बंधक बना लिया. इसके बाद रेप के झूठे केस में फंसाने की धमकी देने लगे.

आरोपियों ने उनसे तीन लाख रुपए की मांग की थी. आरोपी महिला ने श्यामवीर के फोन से उसके घर फोन कर दिया. पीड़ित के परिजनों तुरंत ही इसकी शिकायत पुलिस से कर दी. पुलिस ने तुरंत दबिश देकर आरोपियों को पकड़ लिया. पकड़े गए आरोपियों की पहचान 25 वर्षीय दिनेश कुमार मीणा निवासी टोंक जिला, 22 वर्षीय रामकेश बैरवा निवासी टोंक जिला, 35 वर्षीय विजय बैरवा निवासी सवाई माधोपुर, 30 वर्षीय महिला कविता मीणा निवासी प्रताप नगर जयपुर के रूप में हुई है. इन लोगों ने हनी ट्रैप गैंग बना रखा था.

एक टिप्पणी भेजें

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search