- डांग के जंगलों से विलुप्त हिरण वर्षों बाद फिर से सामने आए, 'पूर्णा अभयारण्य' में छोड़े गए हिरणों की संख्या बढ़कर 64 हो गई। | सच्चाईयाँ न्यूज़

शनिवार, 5 अगस्त 2023

डांग के जंगलों से विलुप्त हिरण वर्षों बाद फिर से सामने आए, 'पूर्णा अभयारण्य' में छोड़े गए हिरणों की संख्या बढ़कर 64 हो गई।

 


               इको सिस्टम को और संतुलित करने के उद्देश्य से वन विभाग द्वारा डांग के जंगलों में एक और सफल अनूठी पहल की गई है। वन क्षेत्रों में शाकाहारी जीवों की संख्या बढ़ाना मानव-पशु संघर्ष को कम करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। राज्य वन विभाग द्वारा डांग में शुरू किए गए 'हिरण प्रजनन केंद्र' को सार्थक बनाने के परिणामस्वरूप इन जंगलों से विलुप्त हो चुके हिरण-चित्तल वर्षों बाद फिर से जंगल में प्रवेश कर गए हैं। डांग स्थित 'पूर्णा अभयारण्य' में हाल ही में छोड़े गए 50 हिरणों की संख्या अब बढ़कर 64 हो गई है। इस अभिनव पहल के शुभारंभ के साथ, डांग के जंगलों में अब एक और नया पर्यटक आकर्षण जुड़ गया है। इसके अलावा, वर्तमान में हिरण प्रजनन केंद्र में 11 और हिरणों को तैयार किया जा रहा है, ऐसा वन मंत्री श्री मुलुभाई बेरा ने कहा।
             वन मंत्री श्री मुलुभाई ने विवरण देते हुए कहा कि गुजरात के वन क्षेत्रों में शाकाहारी और मांसाहारी जीवों का संतुलन बनाए रखने के लिए मुख्यमंत्री श्री भूपेन्द्रभाई पटेल के नेतृत्व में गुजरात सरकार द्वारा कई नए आयाम-अभियान शुरू किए गए हैं। पशुओं का प्रजनन एवं संरक्षण। गुजरात में हिरण-चित्तल की आबादी बढ़ाने के उद्देश्य से उत्तर डांग वन प्रभाग के अंतर्गत कालीबेल रेंज कार्य क्षेत्र में चिखला बिट में वर्ष 2010-11 में हिरण प्रजनन केंद्र की स्थापना की गई थी। इसका उद्देश्य वन क्षेत्रों में शाकाहारी जीवों की संख्या बढ़ाना और मानव-पशु संघर्ष को कम करना है। इसके अलावा, चीतल-हिरण के लिए इस हिरण प्रजनन केंद्र में भोजन-श्रृंखला को बहाल करने और मांसाहारी और मांसाहारी जानवरों के प्राकृतिक खाद्य-श्रृंखला चक्र को बनाए रखने के लिए सभी आवश्यक सुविधाएं बनाई गई हैं।
            जिसमें पशु चिकित्सकों और अन्य विशेषज्ञों द्वारा नियमित रूप से केंद्र का दौरा किया जाता है ताकि पीने के पानी जालर/कुंडी, चेकडेमो, वन-तलावाड़ी आदि के माध्यम से हिरणों के स्वास्थ्य को बनाए रखा जा सके। ऐसे में हिरण, चीतल की संख्या काफी बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के गुजरात वन्यजीव सलाहकार बोर्ड की सिफारिश पर वर्ष 1977 में डांग में 'पूर्णा वन्यजीव अभयारण्य' की स्थापना की गई थी। 2019 में जूनागढ़ के सक्करबाग चिड़ियाघर से 37 चीतलों के आवंटन के अलावा, वांसदा के राजा श्रीमान जयवीरेंद्रसिंह सोलंकी द्वारा डांग में हिरण प्रजनन केंद्र को अब तक कुल 12 चीतल उपहार में दिए गए हैं।
           पूर्णा अभयारण्य स्थित हिरण प्रजनन केंद्र से 50 हिरणों को इस अभयारण्य के प्राकृतिक क्षेत्र में छोड़ा गया। जिनकी संख्या अब कुछ ही समय में बढ़कर 64 हो गई है। जो दिन-रात निगरानी कर रहे वन विभाग के कर्मियों के अथक प्रयास का नतीजा है। इन सभी स्वस्थ चीतलों को उनके शावकों के साथ पूर्णा अभयारण्य के प्राकृतिक आवास में छोड़ दिया गया है। जो डांग आने वाले पर्यटकों के लिए आकर्षण का केंद्र बनेगा। वन मंत्री श्री मुलुभाई ने पिछले सप्ताह उत्तर डांग वन प्रभाग के अंतर्गत हिरण प्रजनन केंद्र का व्यक्तिगत रूप से दौरा किया और हिरण-चित्तल के प्रजनन और संरक्षण के लिए की जा रही विभिन्न गतिविधियों का व्यक्तिगत रूप से अवलोकन किया।

एक टिप्पणी भेजें

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search