- हाजी मलंग दरगाह में जब 20 हजार शिवसैनिकों ने की पूजा, उद्धव ठाकरे भी गए | सच्चाईयाँ न्यूज़

शुक्रवार, 5 जनवरी 2024

हाजी मलंग दरगाह में जब 20 हजार शिवसैनिकों ने की पूजा, उद्धव ठाकरे भी गए


 ये मस्जिद, मस्जिद नहीं मंदिर है, इस तरह की आवाजें लगातार सुनाई पड़ती रहीं हैं. पर अब एक दरगाह को लेकर बवाल मच गया है. फिलहाल ये जंग तो जुबानी है लेकिन मामला तूल पकड़ता जा रहा है.दरअसल 2 जनवरी को महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के एक बयान के बाद बरसों पुरानी हाजी मलंग दरगाह चर्चा में आ गई. एकनाथ सिंदे ने मंगलवार को कह दिया कि वह दरगाह की मुक्ति के लिए प्रतिबद्ध हैं. फिर क्या, विवाद शुरू हो गया.दरगाह के जो ट्रस्टी हैं, उन्होंने कहा कि यह सब विवाद दरगाह का इस्तामाल कर राजनीतिक फायदा लेने के मकसद से किया जा रहा है. शिवसेना अब तो वैसे दो खेमों में बंट गई है लेकिन पहले जब पार्टी एक थी तो यह उसका साझा विचार था. विचार ये कि हाजी मलंग दरगाह एक मंदिर है. मलंगगढ़ किले के पास मौजूद इस दरगाह का सबसे बड़ा विरोध हाल के दशक में साल 1980 में हुआ था. तब शिवसेना नेता आनंद दिघे ने यह कहना शुरू किया कि वे इस दरगाह को प्राचीन हिंदू मंदिर के तौर पर मान्यता दिला कर ही दम लेंगे.

जब 20 हजार शिवसैनिकों ने की पूजा

जिस दरगाह को मंदिर बनाने को लेकर एकनाथ शिंदे अब खैर-ख्वाह बन रहे हैं, उससे उद्धव ठाकरे का एक पुराना कनेक्शन है. साल 1996 था, आनंद दिघे का संघर्ष जोड़ पकड़ने लगा था. दावा हो रहा था कि यह दरगाह सात सौ साल पुराना मंदिर है. फिर एक दिन शिवसैनिकों ने तय किया कि वे दरगाह पर पहुंच कर पूजा करेंगे.

लगभग 20 हजार शिवसैनिक दरगाह पर पूजा करने के लिए गए. मनोहर जोशी उस समय राज्य के मुख्यमंत्री हुआ करते थे. लोगों को अब भी याद है जब मुख्यमंत्री के साथ 20 हजार सैनिकों ने दरगाह में पूजा किया. दिलचस्प बात ये थी कि उस समूह में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भी शामिल थे. शिवसेना ने इसी घटना के बाद से खास तौर पर इस दरगाह को ‘श्री मलंगगढ़’ के नाम से पूकारना शुरू कर दिया.

एक टिप्पणी भेजें

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search