- सावधान! टोल प्लाजा पर कहीं आपके साथ न हो जाए फास्टैग वाला ऐसा 'फ्रॉड', ब्लैक लिस्ट बताकर हो रही दोगुनी वसूली | सच्चाईयाँ न्यूज़

रविवार, 7 जनवरी 2024

सावधान! टोल प्लाजा पर कहीं आपके साथ न हो जाए फास्टैग वाला ऐसा 'फ्रॉड', ब्लैक लिस्ट बताकर हो रही दोगुनी वसूली


गर आपकी गाड़ी में भी फास्टैग लगा है और आप हाईवे और एक्सप्रेसवे पर सफर करते हैं तो अब सावधान हो जाइए वरना आप भी टोल प्लाजा पर हो रही इस गड़बड़ी शिकार बन सकते हैं। दरअसल, गाजियाबाद के नेशनल हाईवे-9 स्थित छिजारसी टोल प्लाजा पर टोल वसूली के नाम पर गड़बड़ी हो रही है।वाहन पर लगे फास्टैग में पैसा होने पर भी उसे ब्लैक लिस्ट में डाला जा रहा है। इसके बाद वाहन चालकों से दोगुना टोल वसूला जा रहा है। आरोप है कि विरोध करने पर टोल कर्मचारी बदतमीजी भी करते हैं।गाजियाबाद से सटा छिजारसी पर टोल प्लाजा है। यहां से हापुड़, रामपुर, बरेली, मुरादाबाद, नैनीताल और लखनऊ की तरफ रोजाना हजारों की संख्या में वाहन निकलते हैं। गाजियाबाद के वाहन भी रोज हापुड़ की तरफ जाते हैं। टोल प्लाजा पर फास्टैग से टोल काटने की व्यवस्था है, लेकिन फास्टैग के नाम पर खेल चल रहा है। दरअसल, फास्टैग में पैसा होने पर भी उसे ब्लैक लिस्ट में डाल दिया जा रहा है। ऐसा होने पर टोलकर्मी वाहन चालकों से दोगुना टोल वसूली की मांग करते हैं।आरोप है कि जब चालक फास्टैग में पैसा होने की बात बोलते हैं तो टोलकर्मी उनकी मदद नहीं करते। विरोध जताने पर टोलकर्मी भी गलत बर्ताव करने लगते हैं। वाहन चालक एनएचएआई के हेल्पलाइन नंबर पर इस तरह की शिकायत कर रहे हैं, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है।

फास्टैग में 930 रुपये होने पर भी बदतमीजी

गाजियाबाद के शास्त्रीनगर निवासी संदीप चौधरी ने बताया वह गुरुवार को कार से बुलंदशहर गए थे। छिजारसी टोल प्लाजा पर फास्टैग से 165 रुपये का टोल काटा गया। उसी दिन वह रात में शास्त्रीनगर लौट रहे थे। टोल प्लाजा पहुंचने पर फास्टैग को ब्लैक लिस्ट में बता दिया गया, जबकि फास्टैग में 930 रुपये थे। टोल कर्मचारी ने दोगुना टोल की मांग की। फास्टैग में पैसा होने की बात कहने पर भी उनकी मदद नहीं की गई। उनका आरोप है कि दोगुना टोल देने से इनकार करने पर टोल कर्मचारी बदतमीजी करने लगा। उन्होंने हेल्पलाइन नंबर 1033 पर शिकायत दर्ज कराई।

शुल्क के लिए गाड़ी को काफी देर खड़ा रखा

अवंतिका निवासी अशोक शर्मा ने बताया वह कुछ दिन पहले कार से हापुड़ गए थे। छिजारसी टोल पहुंचने पर गाड़ी पर लगे फास्टैग को ब्लैक लिस्ट में बता दिया गया, जबकि फास्टैग में पैसे थे। टोल कर्मचारी ने दोगुना टोल की मांग की। उसे फास्टैग में पैसा दिखाया तो वह बहस करने लगा। कुछ देर बाद फास्टैग से पैसा काट लिया गया। वापसी में भी यह समस्या आई।

डासना और दुहाई टोल पर लग रहा समय

ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे के डासना और दुहाई टोल प्लाजा पर फास्टैग से टोल कटने में समय लग रहा है। कई बार बैरियर उठने में समय लगता है। ऐसे में चालकों को टोल पार होने के लिए ज्यादा इंतजार करना पड़ता है। कई बार फास्टैग से स्कैन नहीं हो पाता। दोनों टोल पर इस तरह की समस्या अक्सर रहती है।

वाहनों की लाइन लग रही

फास्टैग में पैसा होने पर दोगुना टोल मांगने के विवाद में टोल लेन पर जाम लग जाता है। वाहनों की लंबी लाइन लग जाती है। ऐसे में वाहन चालकों को जाम झेलना पड़ रहा है। इससे परेशानी उठानी पड़ रही है।

-अरविन्द कुमार, पीडी एनएचएआई, ''टोल पर फास्टैग को ब्लैक लिस्ट में बताने संबंधी कुछ शिकायतें मिली हैं। इसकी औचक जांच कराई जाएगी। हालांकि, इस तरह की गड़बड़ी होना मुश्किल है।''

एक टिप्पणी भेजें

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search